Blog Page 3

Hindi sex Story शिप्रा भाभी के मज़े लूटे

0
Hindi Sex Story
Hindi Sex Story

Hindi sex Story प्रेषक : जैकी … हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम जैकी है और ये कहानी मेरी और मेरी किरायेदार शिप्रा भाभी की है। मेरी उम्र 23 साल है और में स्टूडेंट हूँ।

hindi sex story

अब में आपको शिप्रा भाभी के बारे में बताता हूँ, उनकी बॉडी में सबसे बेस्ट पार्ट उनके बूब्स है। लगता है कि बस उनको दबाता जाऊं और चूसता जाऊं। Hindi sex Story उनका फिगर 38-26-38 है। में उनको बहुत दिनों से चोदना चाहता था और उन्हें देख देखकर मुठ मारा करता था। ये उनको भी पता चल गया था कि में उनको देखा करता हूँ और जब भी वो बाहर निकलती तो में भी बाहर आ जाता था। Hindi sex Story ये तब हुआ जब मेरे घरवाले किसी प्रोग्राम में गए हुए थे और में घर में अकेला था और में अपने रूम में बैठकर अपने लेपटॉप पर ब्लू फिल्म देख रहा था और जब मेरे घरवाले बाहर जाते है तो मेरे लिए खाना भाभी ही बनाकर देती है तो मुझे खाना बनाना नहीं पड़ता था। hindi sex story अब में मस्ती से बैठकर बी.एफ देख रहा था, उतने में ही भाभी ने गेट खटखटाया और मैंने स्क्रीन बंद कर दी और दरवाजा खोला तो भाभी खाना लेकर आई थी। फिर मैंने खाना लिया और वो पूछने लगी कि क्या कर रहे थे? तो मैंने कहा मूवी देख रहा था तो वो कहने लगी कौन सी? Hindi sex Stories तो मैंने कहा ऐसे ही हॉलीवुड मूवी है तो वो कहने लगी कि में भी फ्री हूँ, में भी देखूँगी। अब मुझे डर लगने लगा कि वो ये देखेगी तो क्या कहेगी? अब में कुछ कर भी नहीं सकता था। अब मुझे मजबूरी में लेपटॉप का स्क्रीन उठना पड़ा और वो देखकर चौंक गई कि उसमें सेक्स मूवी चल रही थी। hindi sax story फिर वो मुझसे कहने लगी कि तुम ये सब देखा करते हो, आने दो तुम्हारे घरवालों को में उन्हें सब बताउंगी। फिर मैंने कहा सॉरी भाभी, तो वो कहने लगी नहीं। मैंने कहा प्लीज किसी को मत बताना तो वो नीचे जाने लगी तो मैंने उन्हें पीछे से पकड़ लिया और मेरा खड़ा लंड उनकी गांड में लगने लगा। अब वो मुझसे कहने लगी कि तुम ये क्या कर रहे हो? तो मैंने कहा भाभी आई लव यू में आपको बहुत प्यार करता हूँ। अब वो थोड़ा नोर्मल हो गई और कहने लगी हाँ मुझे पता है तभी तुम मुझे हर समय देखा करते हो। इतने में मैंने उनके लिप पर अपने लिप रख दिए और उन्हें किस करने लगा। hindi sex story अब उन्होंने भी कुछ नहीं कहा और एक मिनट तक किस करने के बाद में अपने हाथ उनके बूब्स पर ले गया और क्या बताऊँ यार क्या मस्त बूब्स थे? एकदम मुलायम बड़े-बड़े लग रहे थे। बस ब्लाउज फाड़कर उन्हें चूसना शुरू कर दूँ। वो उस दिन मेक्सी पहन कर आई थी और फिर मैंने उनकी मेक्सी उतार दी, क्या सीन था यार? जिन्हें में रोज़ सोचकर मुठ मारा करता था, वो आज मेरे सामने ब्रा और पेंटी में खड़ी थी। फिर मैंने उनको उठाया और अपने बेड पर ले जाकर लेटा दिया, फिर मैंने अपनी टी-शर्ट और पजामा भी उतार दिया। hindi sex story अब वो मेरा लंड देखकर खुश हो रही थी। फिर मैंने उनकी ब्रा उतार दी। वाहह यार उनके निप्पल पिंक कलर के और फूले हुये थे। फिर में लेफ्ट बूब्स का निप्पल मुँह में लेकर चूसने लगा और दूसरे बूब्स को दबाने लगा। वो भी आह आह की आवाजें निकालने लगी थी। फिर मैंने अपना एक हाथ ले जाकर उनकी चूत पर रख दिया और अब उनकी पेंटी पूरी गीली हो चुकी थी। फिर मैंने उनकी पेंटी उतार दी और उनसे अपनी अंडरवियर उतारने को कहा तो उन्होंने उतार दी और मेरे लंड को पकड़कर ऊपर नीचे करने लगी। फिर मैंने उनसे अपने लंड को चूसने को कहा और वो चूसने लगी। क्या टाईम था यार? मज़ा आ रहा था। में सातवें आसमान में था। दोस्तों ये कहानी आप चोदन डॉट कॉम पर पड़ रहे है। फिर हम 69 पोज़िशन में आ गए। फिर में 10 मिनट के बाद उठा और अपने लंड को उनकी चूत पर रख दिया और धक्के मारने लगा। मेरा लंड थोड़ा ही अंदर गया था और भाभी मस्त मस्त आवाज़े निकालने लगी थी। फिर मैंने एक ज़ोर का झटका मारा और मेरा पूरा लंड उनकी चूत में चला गया और वो कहने लगी कि धीरे करो मुझे दर्द हो रहा है। Hindi sex story अब में उन्हें किस करता जा रहा था और उनके बूब्स दबाता जा रहा था और चूसता भी जा रहा था। मुझे पहली बार किसी को चोदने का मज़ा आ रहा था। फिर मैंने उनसे कहा कि आप मेरे ऊपर आ जाओ तो वो मेरे ऊपर आकर अपनी गांड उठा उठाकर चुदवा रही थी। फिर 15 मिनट तक चोदने के बाद मेरा निकलने वाला था तो भाभी ने कहा कि अंदर ही डाल दो। मैंने अंदर ही अपना सारा माल निकाल दिया और भाभी के ऊपर लेट गया। फिर हम साथ में नहाये और नहाते हुए भी हमने खूब मस्ती की। फिर मैंने उन्हें अपने हाथों से नहलाया और उनके खूब बूब्स दबाये। अब मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया और फिर मैंने भाभी से कहा कि मुझे आपको फिर से चोदना है तो भाभी कहने लगी कि कितना चोदोगे, आज ही मेरी चूत का भोसड़ा बना दोगे क्या? फिर मैंने भाभी को डॉगी स्टाइल में चोदा और अब मैंने शॉवर चालू कर दिया था और हम नहा भी रहे थे और चुदाई भी कर रहे थे। में उनके बूब्स बड़ी तेज़-तेज़ दबा रहा था। Hindi sex Story फिर हम चुदाई करके अच्छी तरह नहा लिए और फिर भाभी अपने कपड़े पहनकर नीचे चली गई। अब जब भी हमें टाईम मिलता है तो हम खूब चुदाई करते है ।। धन्यवाद ..

सीमा बहन के साथ पकड़ा पकड़ी

0

प्रेषक : सोनू … हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम सोनू है और में गुड़गावं से हूँ। ये मेरी इस साईट पर पहली कहानी है। में बहुत दिनों से इस साईट पर स्टोरी पढ़ रहा हूँ और आज जो स्टोरी में लिखने जा रहा हूँ वो मेरी और मेरी कजिन बहन सीमा के बीच हुई एक सच्ची घटना है। ये घटना कुछ साल पहले हुई थी। सबसे पहले में आपको अपने बारे में बता दूँ, मेरा नाम सोनू है और मेरी उम्र 22 साल है और में गुडगावं में रहता हूँ। मेरी हाईट 5 फुट 9 इंच है और मेरे लंड का साईज़ 7 इंच है। ये बात तब की है जब में अपने घर पर अकेला रहता था क्योंकि मेरे पापा सरकारी जॉब में है, तो उनका ट्रान्सफार दूसरी सिटी में हो गया था इसलिए मेरी पूरी फेमिली भी वही शिफ्ट हो गई थी और में जा नहीं सकता था क्योंकि मेरी 12वीं क्लास थी, लेकिन मेरी मम्मी के कहने पर मेरी नानी मेरे खाने और मेरी देखभाल के लिए मेरे पास आ गई थी और सब कुछ ठीक चल रहा था और अब मेरी परीक्षा भी हो गई, लेकिन उसके बाद मुझे कॉम्पीटिशन की तैयारी के लिए वहीं रहना पड़ा और इसी दौरन मेरी मौसी और उनकी बेटी सीमा नानी से मिलने आए। सीमा भी 12वीं की परीक्षा देकर आई थी तो उसकी छुट्टियाँ चल रही थी और मौसी तो 2 दिन रुक कर चली गई, लेकिन मेरी कज़िन सीमा वहीं रुक गई। सीमा की उम्र उस टाईम 19 साल होगी और वो एक नंबर का माल थी। फिर हम दोनों आपस में काफ़ी फ्रेंक थे और दोस्तों उसका फिगर 34-27-34 होगा और में उसके बारे में सोचकर बहुत बार मुठ मार चुका था। मौसी के जाने तक सब ठीक था, लेकिन मौसी के जाते ही हम दोनों को जैसे पंख लग गये हो, क्योंकि नानी ज़्यादा टाईम बाहर आंटीयों के साथ ही बैठी रहती थी और हम दोनों दिन भर मस्ती करते रहते थे। फिर रात को हमने ऊपर सोने का प्रोग्राम बनाया, क्योंकि नीचे बहुत गर्मी थी और सबसे पहले नानी का बिस्तर, फिर सीमा का और फिर मेरा बिस्तर लगाया गया और रात को भी हम बातें करते रहे। फिर मैंने बातें करते-करते अपना हाथ सीमा के पेट पर रख दिया और फेरने लगा तो वो कुछ नहीं बोली। फिर धीरे-धीरे में मेरा हाथ ऊपर लाने लगा तो उसने मेरा हाथ पकड़कर नीचे कर दिया, लेकिन रोका नहीं। फिर मैंने ऐसा 2-3 बार किया और उसने बार बार ऐसा ही किया और इस बार में अपना हाथ पेट के नीचे ले गया और अब मेरा हाथ अब उसकी चूत के ऊपर था। तभी उसने मेरा हाथ हटा दिया। फिर वो दूसरी तरफ मुँह करके सो गई और में भी कुछ नहीं कर सकता था क्योंकि नानी पास में ही सोई थी। फिर अगले दिन दोपहर को वो लेटी हुई थी, तो में उसके पास जाकर लेटा और उसे छेड़ने लगा। तो वो बोली कि में तेरी गर्लफ्रेंड नहीं हूँ, अगर कंट्रोल नहीं होता तो अपनी गर्लफ्रेंड के पास जा। फिर मैंने कहा अगर नहीं है तो तू बन जा और अचानक से उसके होंठो पर किस कर दिया और वो मुझे मारने लगी, तो में वहां से भाग कर अपने कमरे में आ गया और लेट गया। फिर कुछ देर के बाद वो आई तो मैंने अपनी आँखे बंद कर ली और में पेट के बल लेटा हुआ था तो उसने मेरे कंधो पर काट दिया और भाग गई। फिर में उसके पीछे भागा और उसे पीछे से पकड़ लिया और इस पकड़ा पकड़ी में मेरा लंड उसकी गांड से टच हो गया और खड़ा होने लगा और मैंने उसे उसके पेट से टाईट पकड़ा हुआ था और उसके पीछे पीठ और कंधो को किस करने लगा। तो वो कहती रही कि सोनू मत कर और वो मौन करने लगी आहह आअहह उउउम्म्म्मम, लेकिन में नहीं माना और मैंने अपने हाथ उसके बूब्स पर रख दिए और दबाने लगा। वो मदहोश होने लगी और इधर मेरा लंड खड़ा होकर उसकी गांड में घुसने की कोशिश करने लगा और वो बोली कि सोनू वो पीछे चुभ रहा है। दोस्तों ये कहानी आप चोदन डॉट कॉम पर पड़ रहे है। फिर मैंने उसे सीधा किया और उसके लिप चूसने लगा और फिर हमने काफ़ी देर तक फ्रेंच किस किया और फिर मैंने उसके सूट को उतार दिया और ब्रा के ऊपर से उसके बूब्स दबाने लगा और एक हाथ उसकी सलवार में अन्दर डाल दिया और पेंटी के ऊपर से उसकी चूत मसलने लगा। अब वो पागलों की तरह आहें भरने लगी थी फिर मैंने उसकी ब्रा निकाली और बूब्स चूसने लगा और एक हाथ से उसकी चूत में उंगली करने लगा। फिर मैंने उसकी सलवार और पेंटी भी एक झटके में उतार दी और उसकी चूत बिल्कुल चिकनी थी और फूली हुई थी और मेरे होंठ अपने आप वहां पहुँच गये और वो आआअहह उूउउम्म्म्म करती रही। फिर वो मेरी पेंट से मेरा लंड बाहर निकालने की कोशिश करने लगी। फिर उसने मेरे कपडे उतारे और हम 69 की पोज़िशन में आ गये और एक दूसरे को चूसने लगे। फिर लगभग 10 मिनट तक चूसने के बाद हम दोनों एक साथ झड़ गये और सारा पानी पी गये। फिर हम सीधे हो कर एक दूसरे को हग करके किस करने लगे और एक दूसरे अंगों से खेलने लगे। हम फिर से जल्दी ही दोनों गर्म हो गये और मेरा लंड उसकी चूत को सलामी देने लगा। उसके बाद मैंने थूक लगाया और लंड को उसकी चूत में डालकर उसे चोदा। इस चुदाई में हम दोनों को बहुत मजा आया। फिर जब तक वो हमारे घर पर रही तब तक में उसे रोज चोदता रहा ।। धन्यवाद …   Copyright © 2016 Chodan.com. Shopping WordPress Theme by themehall.com

कुंवारी कन्या के साथ सेक्स

0

प्रेषक : वैभव … हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम वैभव है और में गाज़ियाबाद से हूँ। में 23 साल का लड़का हूँ और मेरी हाईट 5 फुट 9 इंच है और में एक एम.एन.सी कंपनी में सेल्स ऑफिसर की जॉब करता हूँ। तो अब में आपका समय ख़राब ना करते हुए सीधा स्टोरी पर आता हूँ। ये स्टोरी मेरी फ़ेसबुक फ्रेंड की है। उसका नाम कनिष्का है और वो सहारनपुर से है। उसकी उम्र 19 साल, हाईट 5 फुट 5 इंच, वो थोड़ी मोटी, लेकिन दिखने में सुंदर है और उसके बूब्स का साईज लगभग 40 है। वो पिछले 6 महीने से मेरी दोस्त है और हम चेटिंग से बहुत बात करते है और मैंने उसके बारे में कभी कुछ गलत नहीं सोचा था, लेकिन वो अभी-अभी जवान हुई थी तो उस पर जवानी का नशा चढ़ा था और हम सिर्फ फ़ेसबुक फ्रेंड है। एक बार में किसी काम की वजह से उससे कुछ दिनों तक चैट नहीं कर पाया तो वो गुस्सा करने लगी। फिर मैंने उसे समझाया कि में व्यस्त था इसलिए बात नहीं कर सका तो उसने मुझसे मेरा फोन नम्बर मांगा। मैंने उसको नंबर दे दिया। उसके बाद वो मुझे फ़ोन करने लगी और हमारी फोन पर भी बातें होने लगी, फिर कुछ टाईम नॉर्मल बात होने के बाद उसने मुझे प्रपोज कर दिया। मैंने भी स्वीकार कर लिया। फिर हम फोन पर घंटो बातें करते थे। फिर कुछ टाईम के बाद वो मुझे डबल मीनिंग मैसेज भेजने लगी और इस तरह हम फोन पर सेक्स की बातें करने लगे। फिर एक बार मैंने उससे मिलने को कहा तो में सहारनपुर चला गया, फिर हम मिले और हमने मूवी देखने का प्लान बनाया। फिर मूवी में जैसे ही रोमांटिक सीन आया तो मैंने धीरे से उसका हाथ पकड़ा और सहलाने लगा, जब उसने कुछ नहीं कहा तो मैंने अपना हाथ उसके बूब्स पर रख दिया, क्या फीलिंग थी यार? उसके मस्त मोटे-मोटे बूब्स थे। फिर मैंने धीरे-धीरे उसके बूब्स दबाना शुरू कर दिया, जिससे वो गर्म होने लगी और सिसकियां लेने लगी उम्म्म्म हहह्ह्ह्ह। फिर में अपना हाथ उसकी टी-शर्ट में डालकर उसके बूब्स दबा रहा था। फिर मैंने अपने होंठ उसके कांपते हुए होंठो पर रख दिए, उसके क्या रसीले होंठ थे? फिर मैंने उसका हाथ पकड़कर अपने लंड पर रख दिया। अब मेरा लंड पेंट को फाड़कर बाहर निकालने की कोशिश कर रहा था। फिर मूवी ख़त्म होने के बाद मैंने उसे एक किस किया और वापस आ गया, लेकिन उसकी प्यास भड़क चुकी थी और वो उसे शांत करना चाहती थी। फिर से हमारा फोन सेक्स शुरू हो गया। अब में उसे चोदने के लिए मनाने की कोशिश करने लगा, लेकिन उसे चोदने की कहीं पर भी जगह नहीं थी, क्योंकि वो यहाँ नहीं आ सकती थी और उसकी फेमिली वालों की वजह से में उसके घर नहीं जा सकता था। फिर एक दिन मेरी ऊपर वाले ने सुन ली और उसके घरवालों को एक शादी में जाना पड़ा। वो अपनी परीक्षा की वजह से नहीं जा सकी थी। जैसे ही उसने मुझे बताया तो मैंने उसके घर जाने का प्लान बना लिया। उसने भी हाँ कह दिया क्योंकि वो भी मुझसे चुदना चाहती थी। फिर में शाम को 7 बजे उसके घर पहुँच गया और रास्ते से मैंने आते हुए एक वोड्का की बोतल ले ली। फिर में जैसे ही उसके घर में अन्दर गया तो मैंने उसे अपनी बाहों में ले लिया और किस करने लगा। फिर 10 मिनट तक किस करने के बाद मैंने उसे छोड़ा तो वो हांफ रही थी। फिर हम अलग हुए और फिर मैंने उसे ग्लास और पानी लाने को कहा तो वो लेकर आ गयी। अब मैंने जैसे ही बोतल खोली तो वो कहने लगी कि मैंने कभी नहीं पी है में नहीं पीउंगी। मैंने उसे बड़ी मुश्किल से समझाया तो वो मान गयी। अब हमने पेग पीना शुरू कर दिया और 2 पेग लेने के बाद उसे काफ़ी नशा हो गया था। मैंने अपना एक पेग और लेकर बोतल बंद कर दी। अब वो पूरे नशे में थी। मैंने म्यूज़िक चला दिया और उसे मेरे साथ डांस करने के लिए बोला तो नशे में उससे डांस भी नहीं हो रहा था। वो मेरी बाहों में झूलने लगी। अब में भी उसकी कमर से हाथ फैरता हुआ उसकी मस्त गोल-गोल गांड पर हाथ रखकर धीरे-धीरे दबा रहा था। अब उसे नशे के साथ साथ मस्ती भी चढ़ने लगी थी। फिर मैंने उसे बेड पर लेटा दिया और रज़ाई ओढ़ ली। अब मैंने उसे किस करना शुरू कर दिया, कभी कान पर, गर्दन पर, और फिर धीरे से स्मूच करने लगा। फिर में अपने हाथ से उसके बूब्स दबाने लगा और फिर में धीरे-धीरे अपना हाथ उसकी टी-शर्ट में अंदर डालकर उसके बूब्स दबाने लगा। अब वो मस्त हो कर अपनी आँखे बंद करके, ह्म्‍म्म्मम आआआ कर रही थी। फिर मैंने उसकी टी-शर्ट को निकाल दिया ओह्ह्ह माई गॉड क्या बूब्स थे उसके मोटे राउंड शेप में? और बीच में पिंक निपल थे। में उन्हें देखकर पागल हो गया और अपने मुँह में भरकर चूसने लगा। अब वो मस्त हुए जा रही थी और अब में एक हाथ से उसके एक बूब्स को दबा रहा था और दूसरे बूब्स को मुँह में लेकर चूस रहा था। फिर मैंने अपना हाथ उसके पजामे में डाल दिया और उसकी चूत पर रख दिया। उसकी चूत पूरी भीग चुकी थी और पजामा टाईट होने की वजह से मेरा हाथ उसकी चूत पर सही से नहीं था। मैंने उससे पजामा उतारने को कहा तो उसने पजामा और पेंटी एक साथ उतार दिए। अब उसकी चूत मेरे सामने थी, क्या मस्त चूत थी? फूली हुई और उसके दोनों किनारे आपस में ऐसे चिपके हुए थे जैसे कभी अलग नहीं होंगे। अब में उसकी चूत को धीरे-धीरे सहलाने लगा तो वो मचल उठी। फिर मैंने चूत के होंठ खोलकर देखा तो में हैरान हो गया, वो एकदम टाईट और लाल रंग की थी। फिर मैंने उससे पूछा कि तुमने इससे पहले सेक्स किया है? तो उसने मना कर दिया, दोस्तों वो बिल्कुल वर्जिन थी। ये सुनकर में बड़ा खुश हुआ कि बड़े दिनों के बाद सील तोड़ने को मिल रही है। अब मुझसे और नहीं रहा जा रहा था। फिर मैंने अपने कपड़े निकाल दिए और उसका हाथ अपने खड़े लंड पर रख दिया और झुककर उसकी चूत पर अपना मुँह रख दिया जैसे ही मैंने उसकी चूत पर अपनी जीभ लगाई, तो वो तड़प उठी और मेरा लंड कसकर पकड़कर हिलाने लगी। अब में उसकी चूत चाट रहा था और वो मेरे लंड को सहला रही थी। करीब 5 मिनट तक उसकी चूत चाटने के बाद वो कहने लगी कि वैभव और तेज और तेज और मेरे सर को अपने हाथों से पकड़कर चूत में दबाते हुई जोर से चिल्लाई, आआआआआआअहह बस बस, अब, वो झड़ चुकी थी और में उसका सारा नमकीन पानी पी गया। अब मैंने उससे अपना लंड चूसने को कहा तो वो मना करने लगी। फिर मैंने उससे कहा कि मैंने भी तो किया है और सब ऐसे ही सेक्स करते है तो वो मान गयी। फिर उसने धीरे से मेरे लंड पर जीभ फेरी तो में सातवें आसमान में उड़ने लगा। अब मुझे बड़ा मज़ा आ रहा था। फिर वो मेरे लंड को मुँह में डालकर चूसने लगी और अब मेरे मुँह से सिसकारी निकलने लगी आआआ हुउऊम्म्म्म ओह, फिर जब में झड़ने वाला था तो में उसके सिर को पकड़कर धक्के लगाने लगा और उसके मुँह में ही झड़ गया। अब में फिर से उसे गर्म करने लगा। उसके बूब्स दबाने और चूसने लगा। अब में एक हाथ से उसकी चूत सहला रहा था और अब में अपनी एक उंगली उसकी चूत में डालने लगा तो उसे दर्द होने लगा और उसने मेरा हाथ पकड़ लिया। फिर में जबरदस्ती अपनी उंगली अंदर डालकर अंदर बाहर करने लगा तो वो बहुत गर्म हो गयी थी और मेरा लंड भी फिर से खड़ा हो गया था। दोस्तों ये कहानी आप चोदन डॉट कॉम पर पड़ रहे है। अब में उसकी टांगो के बीच में आ गया और उसकी टांगे ऊपर करके जैसे ही लंड चूत पर रखा तो वो मना करने लगी और कहने लगी कि जब उंगली से उसे इतना दर्द हुआ है फिर ये तो इतना मोटा है, बहुत दर्द होगा। फिर मैंने उसे समझाया कि शुरू-शुरू में थोड़ा सा दर्द होगा फिर मज़ा ही मज़ा है मेरी जान, तो वो मान गयी, लेकिन वो फिर भी डर रही थी। अब मैंने पोज़िशन बनाकर लंड को चूत पर रखकर जैसे ही धक्का मारा तो मेरा लंड फिसल गया।  और फिर मैंने उसके नीचे एक तकिया लगाया और फिर से लंड को चूत पर रखकर धक्का मारा तो लंड उसकी चूत में घुस गया। अब तो वो चिल्लाने लगी, लेकिन उसकी आवाज सुनने वाला कोई नहीं था। अब वो मुझे धक्का देकर हटाने लगी और कहने लगी कि निकालो इसे, तुमने मेरी चूत फाड़ दी। अब में उसे किस करने लगा और उसके बूब्स दबाने लगा, तब वो नॉर्मल हुई। इसके बाद मैंने अपने होंठ उसके होंठ पर रखे और एक जोरदार शॉट मारा तो मेरा लंड उसकी सील तोड़ता हुआ उसकी चूत में अंदर तक घुस गया और वो इतना ज़ोर से चिल्लाई कि पड़ोसी भी उसकी आवाज सुन लेते, लेकिन मेरे मुँह से उसका मुँह बंद होने के बाद भी उसकी बड़ी तेज आवाज़ निकली और उसकी आँखो में आंसू आने लगे और वो रोने लगी और मुझे मारने लगी। अब मैंने उसके हाथ पकड़ लिए तो उसका मुँह आज़ाद हो गया और वो ज़ोर से चिल्लाई कि छोड़ दो मुझे। निकालो इसे मुझे नहीं करना है प्लीज मुझे बड़ा दर्द हो रहा है आई मम्मी और रोने लगी। में उसे किस करने लगा और कहा कि 2 मिनट रुक जाओ हिलना मत नहीं तो दर्द होगा। फिर में 2 मिनट तक ऐसे ही उसके बूब्स दबाता रहा और उसे किस करता रहा। फिर वो थोड़ी शांत हुई तो मैंने धक्के लगाने शुरू किए तो अब उसे भी दर्द हो रहा था। फिर मैंने धीरे-धीरे करना स्टार्ट कर दिया, लेकिन मेरा लंड बुरी तरह से उसकी चूत में जकड़ रखा था तो धीरे-धीरे धक्के लगाने मुश्किल हो रहे थे। अब वो थोड़ी नॉर्मल हो गयी तो मैंने अपने धक्को की स्पीड तेज कर दी अब उसे भी मज़े आने लगे और वो अपने मुँह से आआहहह हूम्म्म ओह  आईईसस्स्स ह्म्‍म्ममममम्म करने लगी। फिर 10 मिनट तक धक्के लगाने के बाद अचानक उसने मुझे अपनी बाहों में कस लिया और वो झड़ गयी। फिर में नीचे लेट गया और उसे अपने ऊपर करके चूत में लंड डालकर उसे चोदने लगा। दोस्तों इस पोज़िशन में मेरी स्पीड काफ़ी तेज होती है और ये मेरी सबसे पसंदीदा पोज़िशन है। फिर 10 मिनट तक पूरी स्पीड से चोदने के बाद वो झड़ गयी और मेरे ऊपर गिर गयी। अब वो मुझसे बस बस कहने लगी। तो मैंने कहा कि मेरा नहीं हुआ तो वो बोली कि मेरी जान लोगे क्या? फिर मैंने उसे घोड़ी बनाया और फिर पीछे से उसकी चूत में लंड डालकर चोदने लगा। अब वो अया आह करने लगी। फिर थोड़ी देर में मेरा निकलने वाला था तो मैंने पूछा कि कहा निकालूं तो उसने कहा कि अन्दर ही निकाल दो। मैंने अपनी स्पीड तेज कर दी और फिर हम दोनों एक साथ झड़ गये और में अपना सारा माल उसकी चूत में डालकर उसके ऊपर ही लेट गया और फिर हम सो गये। मुझे सुबह उसके घर से निकलना था। फिर सुबह जब मेरी आँख खुली तो मैंने देखा कि वो अपनी गांड मेरी तरफ करके सोई थी। ये देखकर मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया और में उसकी गांड सहलाने लगा तो उसकी आँख खुल गयी तो मैंने उसे किस करना शुरू कर दिया। फिर मैंने उससे कहा कि में तुम्हारी गांड मारना चाहता हूँ तो वो मना करने लगी। फिर मेरे काफ़ी मनाने के बाद भी वो नहीं मानी तो मैंने कहा कि अब इस खड़े हुए लंड का तो कुछ करो। तो उसने कहा ठीक है और उसने मुझे लेटाकर खुद मेरे ऊपर आ गयी और चूत मेरे लंड पर रखकर कूदने लगी। फिर इस राउंड के बाद में नहाया और वापस गाज़ियाबाद आ गया। इसके बाद उसकी शादी हो गयी और उसने मुझसे कहा कि तुम मुझे भूल जाओ। अब हम कभी नहीं मिल सकते, लेकिन वो हसीन रात मुझे आज भी याद है ।। धन्यवाद …   Copyright © 2016 Chodan.com. Shopping WordPress Theme by themehall.com

मौसी की बड़ी बहु की चुदाई

0

प्रेषक : रोहन … हैल्लो दोस्तों, में दिल्ली में बचपन से रह रहा हूँ। मुझे शादीशुदा लेडीस ज्यादा पसंद है और मोटी लेडीस भी बहुत पसंद है। ये स्टोरी मेरी और मेरी मौसी की बड़ी बहु के बीच की है। मेरी मौसी की बड़ी बहु का नाम रजनी है और उनकी उम्र 43 के आस पास है, लेकिन वो दिखने में लगती नहीं है। ये कहानी साल 2013 की है, भाभी के दो बच्चे है जो स्कूल जाते है और भैया प्राइवेट कंपनी में जॉब करते है। मेरी मौसी हमारे घर के पास ही रहती थी। में हमेशा उनके घर जाता था। में इस साल भी न्यू ईयर पर उनके घर गया तो मौसी को विश करने के बाद में सीधा भाभी के फ्लोर पर चला गया। जब में गया तो भाभी कपड़े प्रेस कर रही थी। मैंने भाभी को हैल्लो किया और न्यू ईयर विश किया। भाभी ने भी मुझे न्यू ईयर विश किया। मैंने मज़ाक में भाभी से बोल दिया कि भाभी पंजाबियों में क़िसी भी चीज़ को ऐसे विश नहीं करते तो भाभी अचानक से मेरे पास आई और मुझे गले लगाकर बोली ऐसे विश करते है। फिर जैसे ही भाभी ने मुझे गले लगाया तो उनके शरीर का स्पर्श पाकर में दो मिनट के लिए सन्न रह गया। फिर भाभी जाकर कपड़े प्रेस करने लगी और मुझे बोलने लगी कि क्या हुआ? तो में बोला भाभी मेरा दिल ज़ोर-ज़ोर से धक-धक कर रहा है। भाभी बोली कि कभी क़िसी को गले नहीं लगाया क्या? तो में बोला नहीं मैंने कभी क़िसी को गले नहीं लगाया। मैंने भाभी से बोला कि मेरी छाती पर हाथ रखकर देखो कितनी ज़ोर-ज़ोर से धक-धक कर रहा है। तो भाभी ने हाथ रखा और बोली तेरा तो सही में बड़ी ज़ोर-ज़ोर से दिल धक-धक कर रहा है। मैंने भाभी से बोला कि भाभी क्या में आपको दुबारा गले लगा सकता हूँ? तो भाभी ने दुबारा मुझे गले लगाया तो मैंने भी उनको जवाब में गले लगा लिया और उनको कमर से पकड़कर जकड़ में ले लिया। अब मेरा तो हाल बुरा हो रहा था और मेरा लंड भी खड़ा हो रहा था, जिसका शायद भाभी को पता लगने लगा था। भाभी बोली अब छोड़ दे तो मैंने उन्हें छोड़ दिया। फिर हम बात करने लगे और भाभी कपड़े प्रेस करने लगी। फिर बातों-बातों में मैंने फिर से उनको पीछे से गले लगा लिया, जिसकी वजह से मेरा लंड भाभी की गांड में दबने लगा। भाभी बोली कि क्या हुआ? तो में बोला भाभी बड़ा अच्छा लग रहा है और मन कर रहा है कि में आपको ऐसे ही गले लगाये रखूं। फिर भाभी ने भी कोई जवाब नहीं दिया और में ऐसे ही गले लग कर खड़ा रहा। फिर भाभी ने मुझे हटाया और फिर हम बात करने लगे और थोड़ी देर के बाद में चला गया। फिर में नॉर्मली उनके घर आने जाने लगा और भाभी को गले मिलकर मिलता। फिर एक दिन भाभी ने मुझे फोन किया कि बच्चों का होमवर्क निकालकर ला दे। भाभी ने फोन पर लिखवा दिया और में फिर होमवर्क निकाल कर सीधा उनके घर दोपहर को 12 बजे गया, जब भैया भी घर नहीं होते और बच्चे भी स्कूल गये होते है। में जैसे ही घर गया तो मैंने मौसी को नमस्ते करके उनका हाल चाल पूछा और फिर पूछा कि भाभी कहाँ है? बच्चों का होमवर्क देना है तो मौसी बोली ऊपर है, ऊपर ही चला जा। मेरी मौसी को घुटनो की प्रोब्लम है इसलिए वो ऊपर नहीं चढ़ सकती। फिर में जैसे ही ऊपर गया तो भाभी किचन में चाय बना रही थी। भाभी ने पीले कलर का सूट पहना था जिसमें वो एकदम मस्त लग रही थी। फिर मैंने भाभी से बोला में बच्चों का होमवर्क ले आया हूँ तो भाभी बोली वही टेबल पर रख दे। फिर मैंने टेबल पर पेपर रखकर सीधा भाभी के पास किचन में चला गया और भाभी को पीछे से हग करके खड़ा हो गया तो भाभी बोली क्या कर रहा है? तो में बोला कि गले मिल रहा हूँ। फिर वो कुछ नहीं बोली। फिर मैंने बोला कि आपने बड़ी अच्छी खुशबू लगाई है तो में अपने मुँह को भाभी के कान के पास ले जाकर सूंघने लगा। तो भाभी बोली क्या कर रहा है? तो में बोला करने दो ना अच्छा लग रहा है, फिर धीरे- धीरे में भाभी के कान पर किस करने लगा और मेरा लंड भाभी की गांड में टच होने लगा और अपने दोनों हाथों को में भाभी के पेट पर घुमाने लगा। अब भाभी ने अपनी आँखें बंद कर दी और मेरे दोनों हाथों को अपने पेट पर दबाने लगी। फिर धीरे-धीरे मैंने भाभी से पूछा कि भाभी तुमको छूने का दिल कर रहा है तो भाभी बोली छू तो रहे हो। फिर में बोला भाभी आपकी पूरी बॉडी को छूने का दिल कर रहा है, क्या में छु लूँ? तो भाभी ने कुछ नहीं बोला। फिर मैंने उनको किचन की दीवार के साथ घुमा कर खड़ा कर दिया तो उनका चेहरा मेरी तरफ आ गया और उनके गालो के पास जाकर किस कर दिया, भाभी सिसकियां लेने लगी। फिर मैंने हिम्मत करके अपने होठों को भाभी के होठों के पास रख दिया और लिप किस करने लगा। दोस्तों ये कहानी आप चोदन डॉट कॉम पर पड़ रहे है। फिर मैंने धीरे-धीरे अपना एक हाथ भाभी के बूब्स पर रख दिया और दबाने लगा तो भाभी कम आवाज़ में बोली कि मत कर कोई आ जायेगा। में बोला कि भाभी बस थोड़ी देर करने दो, कोई नहीं आयेगा। फिर में अपने एक हाथ को उनके सूट के अंदर डालकर उनकी कमर को सहलाने लगा। उनकी बॉडी के स्पर्श को जब मैंने महसूस किया था, क्या मस्त कमर थी? फिर में कमर को सहलाता रहा और किस करता रहा। अब भाभी भी मेरा साथ देने लगी और में अपने लंड का दबाव उनकी चूत पर दबाता रहा। फिर मैंने उनके होठों को छोड़कर दोनों हाथ से उनके सूट को ऊपर उठा दिया। फिर जैसे ही मैंने सूट उठाया तो में सन्न हो गया। अब मुझे ऐसा लग रहा था कि जैसे सफ़ेद चादर पर कोई काली फुटबॉल हो। उन्होंने काले कलर की ब्रा पहनी हुई थी तो में ब्रा के ऊपर से ही उनके बूब्स दबाने लगा। फिर मैंने ब्रा ऊपर खिसका दी और पागलों की तरह बूब्स चूसने लगा और भाभी मेरे सिर पर हाथ फैरने लगी और भाभी का सूट मेरे ऊपर आ गिरा और में भाभी के सूट के अंदर बूब्स सक करने लगा। फिर मुझे भाभी के सलवार का नाड़ा नज़र आया और मैंने भाभी का नाड़ा एक झटके में ऊतार कर खोल दिया, जिससे उनकी सलवार खुल गई और अब मुझे भाभी की गोरी-गोरी जांघे और जांघो के बीच में लाल कलर की पेंटी में उनकी चूत के शेप नज़र आ रही थी। फिर में एकदम से खड़ा हुआ और भाभी को पकड़कर रूम में ले गया और उस फ्लोर वाले गेट को लॉक कर दिया। फिर मैंने भाभी को जाते ही बेड पर लेटा दिया और उनका सूट ऊपर करके पागलों की तरह बूब्स चूसने लगा और सक करते-करते में अपने एक हाथ को उसकी पेंटी के अंदर डालकर उसके गोरे-गोरे और मुलायम कूल्हों को सहलाने लग गया। फिर मैंने उनको दबोच लिया और एक हाथ से उसके निप्पल को मसलने लगा, तो उसकी सिसकियां निकलने लगी। फिर मैंने एक झटके से उसकी पेंटी को ऊतार कर उसको बेड पर लेटा दिया और मैंने भी जल्दी से सिर्फ़ अपनी पेंट और अंडरवियर उतार दिया। अब भाभी ने झट से खड़ी होकर मेरे लंड को पकड़कर चूसना शुरू कर दिया। मैंने लाईफ में कभी ऐसा अनुभव नहीं किया था। अब में जन्नत जैसा महसूस कर रहा था। अब वो मेरे लंड को चूसती रही और में उसके बूब्स को कभी सहलाने लगता तो कभी निप्पल पर काट देता। फिर उसने मुझे नीचे लेटा दिया और खुद मेरे ऊपर इस तरह से आ गयी जिसके कारण उसकी चूत जो कि बिना बालों की थी वो ठीक मेरे मुँह के पास थी। फिर में भी उसकी चूत में उंगली डालकर चाटने लगा। उसकी गांड का छेद भी गुलाबी कलर का था। अब में बीच-बीच में उसमें भी उंगली डाल देता जिसके कारण वो एकदम चिल्ला पड़ती। फिर थोड़ी देर तक ऐसा करने के बाद मैंने उसको नीचे लेटा दिया। फिर उसकी टांगो को अपने कंधो पर रखकर मैंने अपना लंड उसकी गांड के छेद पर रखा और हल्का सा धक्का लगाया। मेरे लंड का सुपाड़ा उसके अंदर चला गया। जिसके कारण वो चिल्ला उठी तो में रुक गया और उसके बूब्स को दबाने लगा। फिर जब उसका दर्द थोड़ा कम हुआ तो मैंने फिर से उसकी जांघो को पकड़कर धक्का मारा और मेरा पूरा लंड अन्दर घुसा दिया, वो एकदम से चिल्ला उठी। फिर मैंने उसके होठों पर किस करना शुरू कर दिया। फिर उसके थोड़ा नॉर्मल होने पर में उसकी गांड के छेद में अपना लंड अंदर बाहर करने लगा। अब उसको भी मज़ा आने लगा था और में साथ में उसकी चूत में भी उंगली भी कर रहा था, जिससे उसको और मज़ा आ रहा था। अब वो सिसकियां लेने लगी और बोली रवि थोड़ा और तेज़ करो, तो में और तेज़ करने लगा। फिर थोड़ी देर के बाद उसकी चूत से पानी निकलने लगा और वो अपनी गांड को टाईट करने लगी। फिर वो बोली कि रवि में गयी, में गयी बोलकर वो आह्ह्ह आह्ह्ह करने लगी, लेकिन में रुका नहीं। फिर 5 मिनट के बाद मेरा भी निकलने वाला था। में बोला कि भाभी मेरा भी निकलने वाला है कहाँ निकालूं? तो वो बोली अंदर ही निकाल दे। फिर मैंने थोड़ी देर धक्के मारने के बाद अपना सारा वीर्य उसकी गांड में ही छोड़ दिया, ये मेरा पहली बार था और जब में क़िसी की गांड में अपना पानी छोड़ रहा था। फिर में उसके ऊपर लेट गया और फिर थोड़ी लेटने के बाद हम दोनों ने अपने आपको साफ किया और वापस आकर दोबारा बेड पर लेट गये और बातें करने लगे। फिर थोड़ी देर के बाद में फिर से तैयार हो गया और फिर मैंने उसकी चूत की जमकर चुदाई की। उस दिन मैंने 2 बार उसके साथ चुदाई की। उसके बाद मैंने चाय पी और फिर में अपने घर आ गया। अब मुझे जब भी मौका मिलता है तो में और भाभी खूब मजे करते है ।। धन्यवाद …   Copyright © 2016 Chodan.com. Shopping WordPress Theme by themehall.com

टीचर की गर्लफ्रेंड को पटाकर चोदा

0

प्रेषक : पारस … हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम पारस है और में दिल्ली से हूँ, ये मेरी एक सच्ची कहानी है जो कि आज से 1  साल पुरानी है। इस कहानी में आपको बताऊंगा कि कैसे मैंने अपने टीचर की गर्लफ्रेंड को पटाकर चोदा? सबसे पहले आप लोगों को अपने बारे में बताता हूँ। में दिल्ली में रहता हूँ और एक नामी इन्स्टिट्यूट से एक एनिमेशन का कोर्स कर रहा हूँ और जिस लड़की को मैंने चोदा उसका नाम अनामिका है। अब में आपको बोर किए बिना सीधा कहानी पर आता हूँ। दोस्तों में दिल्ली में नया था और अपने इन्स्टिट्यूट में भी नया था। फिर कुछ दिन के बाद एक लड़की किसी दूसरी ब्रांच से ट्रान्सफर लेकर आई, उसको देखकर सबका मुँह खुला रह गया। फिर कुछ ही दिनों में मेरी उससे दोस्ती हो गयी, वो बहुत परेशान रहती थी। जब भी में उससे पूछता था कि क्या बात है? तो वो बताती नहीं थी। एक दिन मैंने उसको कसम देकर पूछा तो उसने मुझे उसी इन्स्टिट्यूट के दूसरी ब्रांच के टीचर के साथ रिलेशनशिप के बारे में बताया और साथ में ये भी बताया कि वो उसके साथ बिल्कुल खुश नहीं है और वो केवल उसको चोदना चाहता है। फिर मैंने उसकी हेल्प की और उसका उस टीचर से रिलेशनशिप ख़त्म करा दिया। अब वो मुझ पर बहुत विश्वास करती थी। फिर कुछ दिन के बाद मैंने उसको प्रपोज़ कर दिया और उसने भी हाँ कर दिया। जिस दिन मैंने उसको प्रपोज़ किया उसके दो दिन के बाद मेरा बर्थ-डे था। फिर हम घूमने गये और जब शाम को वापस आए तो मैंने उससे बोला कि में उसको घर छोड़ आता हूँ तो उसने मना कर दिया और बोली कि वो मेरे साथ ही मेरे फ्लेट में रहना चाहती है। फिर जब मैंने उससे कारण पूछा तो उसने मेरी बात काटते हुए मेरे होठों को अपने होठों में भर लिया और मेरे मुँह में अपनी जीभ डालकर मेरी जीभ के साथ खेलने लगी और साथ ही में उसका एक हाथ मेरी पेंट के ऊपर से मेरे लंड को सहला रहा था। सब कुछ इतना जल्दी हुआ कि मुझे कुछ समझ ही नहीं आया। फिर क्या था? में भी उसके ऊपर टूट पड़ा। फिर मैंने किस तोड़ते हुए उसको धक्का दे दिया और वो दीवार से टकरा गयी और तब मैंने उसको दीवार के सहारे चिपकाकर किस करना स्टार्ट कर दिया। साथ ही में उसके बूब्स भी उसके टॉप के ऊपर से ही दबाने लगा। फिर कुछ देर तक ऐसे ही चलने के बाद उसने मुझे बेड पर धक्का दे दिया और वो टावल लेकर बाथरूम में भाग गयी। फिर उसने वापस आने में बहुत वक़्त लगा दिया, लेकिन जब वो वापस आई तो नज़ारा देखकर तो मेरा लंड मेरी पेंट को फाड़कर बाहर आने के लिए तड़प उठा। उसका रंग गोरा, उसका फिगर 28-34-30, वो उस पारदर्शी नाईटी में परी लग रही थी। फिर वो मेरे पास आई और बोली कि अब वो मुझे मेरे बर्थ-डे का गिफ्ट देगी। फिर उसने मेरी आखें बंद की और मेरे हाथ एक कपड़े से बाँध दिए और उसके बाद उसने मेरे सारे कपड़े उतारे और अपने कपड़े भी उतार दिए। अब वो मेरे मोटे और लंबे लंड को देखकर खुश हो गयी और तुरंत अपनी चूत पर रगड़ना शुरू कर दिया। फिर उसने मेरे पूरे जिस्म को चूमा और चाटा, लेकिन मेरे लंड को इतनी बुरी तरह से तड़पाने के बाद भी उसको छुआ नहीं और उसी वक़्त मेरे हाथ खुल गये। फिर क्या था? मैंने अपना दूसरा हाथ भी खोला और अपनी आखों पर से पट्टी हटाई और में उसको देखता ही रह गया। वो क्या लग रही थी? वो 22 साल का माल, बड़े-बड़े बूब्स, उभरी हुई बिना चुदी चूत, अब मेरे मुँह में पानी आ गया, लेकिन उसे पता नहीं था कि मेरे हाथ खुल चुके है और में उसे देख रहा हूँ। दोस्तों ये कहानी आप चोदन डॉट कॉम पर पड़ रहे है। फिर मैंने एक झटके में उसको बेड पर पटकते हुए उसको किस करना शुरू कर दिया, लेकिन मैंने भी उसके बूब्स और चूत को छुआ तक नहीं। फिर वो बोली कि मेरी जान अपनी रानी को इतना मत तड़पाओ और मेरे बूब्स को चूसो और दबाओ और आज मेरी चूत का भी भोसड़ा बना दो मेरे राजा। मुझे चोद-चोद कर अपनी रानी बना लो। उसके मुँह से यह सुनकर में पागल सा हो गया। बस फिर मैंने एक हाथ से उसके एक बूब्स को मसलना और दूसरे बूब्स को दबा-दबाकर चूसना शुरू कर दिया और अब वो मेरे लंड को अपनी चूत पर रगड़ रही थी। फिर कुछ ही देर में वो मुझसे भीख माँगने लगी कि में अपना लंड उसकी चूत में डाल दूँ, लेकिन मैंने उसकी एक नहीं सुनी और उसको बोला कि मेरी जान आज में तुमको तभी चोदूंगा जब तुम मेरे लंड महाराज को चूस-चूसकर खुश कर दोगी। फिर उसने मेरे लंड को अपने मुँह में लिया और आइसक्रीम की तरह चूसने लग गयी। फिर 20 मिनट तक चूसने के बाद हम 69 पोज़िशन में आ गये और कब एक घंटा बीत गया। हमें पता ही नहीं चला और इस दौरान में एक बार और वो 5 बार झड़ चुकी थी। अब पूरे कमरे में बस, आअहहा उउफफफ्फ़ ययययसस्सस्ड, मेरे राजा चूसो और जोर से चूसो, यही आवाज़ें गूँज रही थी। फिर मैंने उसकी गांड के नीचे एक तकिया लगाया और उसके पैर फैलाकर उसकी चूत पर अपना लंड रखा और अन्दर डालने की कोशिश करने लगा, लेकिन वो फिसल गया। फिर मैंने दूसरी कोशिश की और इस बार एक ज़ोर के झटके के साथ 3 इंच लंड उसकी चूत में उतार दिया। अब उसकी आँख से आंसू निकल आए और वो मुझे धक्का देकर हटाने की कोशिश करने लगी और चिल्लाने लगी कि छोड़ हरामी। मेरी चूत की माँ चोद दी कुत्ते, मुझे छोड़ दे, में मर जाउंगी, लेकिन मैंने उसकी एक नहीं सुनी एक और ज़ोरदार झटके के साथ पूरा 7 इंच का लंड उसकी चूत में उतार दिया और वो पसीने में पूरी भीगी हुई चिल्ला रही थी कि आआहह छोड़ दो मुझे नहीं तो में मर जाउंगी। फिर में उसके बूब्स को अपने मुँह में लेकर चूसने लगा और ऐसे ही इंतज़ार किया। अब उसकी सील टूटने की वजह से उसे खून भी निकल रहा था और उसको दर्द भी हो रहा था। फिर जब उसको कुछ आराम मिला तो मैंने अपना लंड उसकी चूत में अंदर बाहर करना शुरू कर दिया और वो भी अपनी गांड उछाल-उछाल कर मेरा साथ देने लगी। अब। वो बार-बार बोल रही थी कि आअहहा आअहह बेबी फुक मी, बहुत मजा आ रहा है उफ़फ्फ़ आआह्ह्हह्ह और 20 मिनट की चुदाई के बाद वो 4 बार झड़ गयी थी। फिर उसने मुझसे बोला कि वो हमेशा से डॉगी स्टाइल मे चुदना चाहती थी। फिर मैंने उसे डॉगी स्टाइल में होने को बोला और अपना पूरा लंड एक ही झटके में उसकी चूत में उतार दिया। अब 15 मिनट के बाद में झड़ने वाला था। मैंने उससे पूछा कि कहाँ डालूं? तो उसने मेरा सारा पानी पी लिया। उस रात मैंने उसको 4 बार चोदा और उसकी गांड भी मारी और तब से लेकर मैंने उसको 6 महीने तक रोज़ चोदा ।। धन्यवाद …   Copyright © 2016 Chodan.com. Shopping WordPress Theme by themehall.com